आयुष्मान भारत योजना क्या है इसके क्या लाभ है

आयुष्मान भारत योजना क्या है  इसके क्या लाभ है

केंद्र सरकार ने अपनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 ( National Health Policy, 2017) में यह परिकल्पना की थी कि भारत में लोगों के घरों के नजदीक 1.5 लाख स्वास्थ्य एवं आरोग्य केंद्र खोले जायेंगे जहाँ असंक्रामक रोगों, मातृ-स्वास्थ्य और बाल-स्वास्थ्य सेवाओं के साथ-साथ व्यापक स्वास्थ्य देखभाल की सुविधाएं दी जायेंगी. यह भीकहां गया था कि ये केंद्र आवश्यक दवाएँ और जाँच की सुविधा मुफ्त में देगी. इस बार के बजट में इस योजना को मूर्त रूप दिया गया है और इसके लिए 1200 करोड़ रुपये निर्धारित किये गए हैं. सरकार ने यह भी व्यवस्था की है कि निजी क्षेत्र और मानव कल्याण से सम्बन्धित संस्थाएँ इन केन्द्रों को अपना सकती हैं |

आयुष्मान भारत योजना
आयुष्मान भारत योजना

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना क्या है


राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति “National Health Protection Schemeआयुष्मान भारत के अंतर्गत दूसरी योजना है. इसके अन्दर 10 करोड़ निर्धन और असुरक्षित परिवार आयेंगे जिनके सदस्यों की संख्या लगभग 50 crore हो सकती है. बजट 2018 में यह प्रावधान किया गया है कि इस योजना के तहत प्रत्येक परिवार को 5 लाख रुपयों तक के अस्पताल खर्च सरकार के द्वारा दिया जाएगा. इस प्रकार यह कार्यक्रम विश्व की सबसे बड़ी सरकारी स्वास्थ्य योजना होगा |

आयुष्मान भारत योजना

आयुष्मान भारत कार्यक्रम 2022 के न्यू इंडिया को बनाने में सहायक सिद्ध होने वाला है जिससे लाखों रोजगार विशेषकर महिलाओं के लिए रोजगार होगा वित्त मंत्री अरुण जेटली ने यह भी घोषणा की थी कि 24 नए सरकारी मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल भी बनाए जाएंगे और यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि प्रत्येक 3 लोकसभा क्षेत्रों पर एक मेडिकल कॉलेज होना चाहिए और देश के हर राज्य में कम से कम एक सरकारी मेडिकल कॉलेज तो होना ही चाहिए |

आयुष्मान भारत योजना


इस योजना के तहत, प्रीमियम भुगतान में किए गए व्यय को केंद्रीय और राज्य सरकारों के बीच 60 अनुपात 40 के अनुपात में बांटा जाएगा |


अगर आपको सरकार की यह स्कीम कैसी लगी हमें हमें कमेंट बॉक्स में जरुर कमेंट करें | अपने दोस्तों को भी शेयर करना ना भूलें अगर आपको सरकार की और भी स्कीम की जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखें हम आपके लिए जल्द से जल्द उस स्कीम की पूरी जानकारी लेकर आएंगे |

Post a Comment

0 Comments